स्लेट पैंसिल प्रोडॅयूसर्स मार्केटिंग कोऑपरेटिव सोसायटी लिमिटेड मंदसौर के सेल्स मैनेजर और लिपिक को संस्था में आर्थिक गबन करने के मामले में 4-4 साल का सश्रम कारावास एवं 50-50 हजार रूपये का जुर्माना 

6:29 pm or January 14, 2023
महावीर अग्रवाल 

मंदसौर १४ जनवरी ;अभी तक;   माननीय विषेष न्यायाधीष महोदय भ्रष्टाचार निवारण अधि0 मंदसौर(श्री किषोर कुमार गेहलोत सा0) द्वारा आरोपीगण 01. मनोज कुमार नागदा पिता श्री काषीनाथ नागदा 44 साल तत्कालीन सहायक सेल्स मैनेजर द स्लेट पैंसिल प्रोडॅयूसर्स मार्केटिंग कोऑपरेटिव सोसायटी लिमिटेड मंदसौर नि0 करजू गली किला रोड मंदसौर 02. देवीलाल शर्मा पिता मोहनलाल 32 साल लिपिक द स्लेट पैंसिल प्रोडॅयूसर्स मार्केटिंग कोऑपरेटिव सोसायटी लिमिटेड मंदसौर नि0 पुराने अस्पताल के पास शासकीय क्वाटर्स मंदसौर को संस्था में माल की हेराफेरी कर गबन कर भ्रष्टाचार करने का दोषी पाते हुए 4-4 साल का सश्रम कारावास एवं 50000-50000 रूपये जुर्माना से दण्डित किया।

                                 अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी दीपक जमरा द्वारा बताया गया कि घटना 24.11.1995 की है द स्लेट पैंसिल प्रोडॅयूसर्स मार्केटिंग कोऑपरेटिव सोसायटी लिमिटेड मंदसौर संस्था मेे पदस्थ अध्यक्ष एवं संस्था में पदस्थ सचिव अध्यक्ष और सहायक सेल्स मैनेजर संस्था के कर्मचारियों द्वारा संस्था के गोदामों मे भरे कार्टून स्लेट पेंसिल पेटियां का सामान न्यू वैरायटी सेल्स एजेंसी जोधपुर, मेम्बर्स धनलक्ष्मी थॉमस स्ट्रीट कोयमबटूर मद्रास और मेम्बर्स इंडिया ट्रेडर्स होलसन डेरी रोड आनंद गुजरात को भेजना दर्षाया था लेकिन उपरोक्त स्थानों की वहां पर कोई दुकानें नही थी इस प्रकार संस्था के गोदामों में आरोपीगण द्वारा फर्जी बिल बनाकर और कम दर में माल बेचकर हेरा-फेरी कर संस्था को 123969 रूपये का गवन किया गया। इस प्रकार संस्था के सेल्स मैनेजर मनोज नागदा और स्टोर कीपर घाटिया द्वारा फर्जी फर्म के नाम से माल बेचकर गबन किया और आर्थिक लाभ अर्जित करने के उदद्ेष्य से शासन को आर्थिक हानि पंहुचाई। विवेचना पूर्ण कर अनुसंधानकर्ता पीपीसिंह द्वारा आरोपीगण के विरूद्ध आरोप पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
विचारण के दौरान उक्त प्रकरण में न्यायालय के समक्ष अभियोजन द्वारा रखे गये तथ्यो व तर्को से सहमत होकर माननीय न्यायालय द्वारा दोनों आरोपीगण को दोषसिद्ध किया
प्रकरण में अभियोजन का सफल संचालन उप संचालक अभियोजन श्री एस.के. जैन द्वारा किया गया।