स्वास्थ्य अव्यवस्थाओं की जांच के बाद कार्रवाई ; कलेक्टर

मयंक शर्मा
खंडवा २३ नवंबर ;अभी तक;  जिले में स्वास्थ्य सेवाएं लड़खड़ा रही हैं। 700 करोड रुपए खर्च
करने के बाद भी जिला अस्पताल और लेडी बटलर में प्रसूताओं एवं नवजात की
मौतें थम नहीं रही हैं। डॉक्टर वर्षों से जमे हैं। कई डॉक्टर लेडी बटलर
में ईमानदारी से काम नहीं कर रहे हैं। लापरवाही बढ़ रही हैं। कुछ नर्सें
भी ड्यूटी को कुशलता से अंजाम नहीं दे पा रही हैं। इससे मरीज असमय मौत के
शिकार हो रहे हैं।
लेडी बटलर याने महिला जिला  अस्पताल भवन का दायरा छोटा है। पास में ही
बने बहुमंजिला भवन में उसे शिफ्ट किया जाना चाहिए। भाजपा  जिला प्रवक्ता
व समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि जनहित की इन मांगों को लेकर मध्यप्रदेश
श्रमजीवी पत्रकार संघ और निमाड़ श्रमजीवी पत्रकार संघ सहित पत्रकारों ने
कलेक्टर को मंगलवार को ज्ञापन दिया।
जिसमे अस्पताल की अव्यवस्थाओं को विस्तार से कलेक्टर के समक्ष रखते हुए
कहा कि  यहां मरीजों को काफी समस्या भुगतनी पड़ रही हैं। डॉक्टरों का
व्यवहार भी ठीक नहीं रहता। नर्सें बुलाने पर भी नहीं आतीं। मरीजों को
उनके हाल पर छोड़ दिया जाता है।
0 कलेक्टर बोले होगी गंभीरता से  जांच
कलेक्टर ने ज्ञापन पर गंभीरता जताई। उन्होंने ज्ञापन पर तुरंत कार्रवाई
करते हुए कहा कि इस मामले में हर बिंदु पर जांच कराई जाएगी। सिविल सर्जन
को भी उन्होंने तत्काल कार्यालय में बुलाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने
कहा कि स्वास्थ्य संवेदनशील मुद्दा है। इस मामले में लापरवाही कभी नहीं
सहन होगी ।
0कलेक्टर खुद सक्षम
मीडिया के दिये गये ज्ञापन कलेक्टर को संबोधित है। यह मुख्यमंत्री या
अन्य किसी को संबोधित करते हुए नहीं दिया गया था। जिला चिकित्सालय व लेडी
बटलर समेत मेडिकल कॉलेज की पूरी स्थिति कलेक्टर खुद गंभीरता से समझते
हैं। वह व्यवस्थाओं को सुधारने के मामले मैं खुद ही सक्षम है।यह भरोसा
ज्ञापन में जताया है।

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *