हनुंवतिया में हवा हुई हवाई यात्रा की सौगात

मयंक शर्मा
खंडवा  २२ दिसंबर ;अभी तक;  नर्मदा घाटी के जिले में नर्मदा नदी पर आकार लेकर इंदिरा सागर
बंध के  बेक वाटर में उपजे हनुवतियां टापू को  जल पर्यटन केंद्र के रूप
में विकसित करने के साथ  6ठें जल महोत्सव के शुभारंभ पर  मुख्यमंत्री
शिवराजसिंह चैहान की हनुंवतिया में हवा हो गयी  हवाई यात्रा की सौगात।
एक सप्ताह पहले शुरू हुई हेलीकाप्टर की जाय राइड सेवा बुधवार को दम तोड़
गई। यहां हेलीकाप्टर सेवा का संचालन कर रही शाश्वत एविएशन कंपनी ने
बुकिंग बंद कर हेलीकाप्टर वापस भेज दिया है। क्रिसमस अवकाश और 31 दिसंबर
को थर्टी फस्ट मनाने वाले का आधात लगा है।
शाश्वत एविएशन के डायरेक्टर अरविंद मेहरा ने बुधवार केा बताया कि
हनुवंतिया में पर्यटन विकास निगम ने प्रतिदिन दस हजार से अधिक पर्यटक आने
और प्रतिदिन कम से कम एक घंटे की उड़ान का आश्वासन दिया था। इसके अलावा
अन्य सुविधाएं और मदद की बात कही थी। इस कारण हमने यहां बगैर किसी सर्वे
के हेलीकाप्टर सेवा शुरू कर दी। एक सप्ताह में मात्र रविवार को दो-तीन
बुकिंग के अलावा हेलीकाप्टर खडा रहा । इससे कंपनी को प्रतिदिन लाखों की
नुकसानी हो रही है। इस संबंध में आला अफसरों को अवगत करवाया गया लेकिन
कोई सहायता नहीं मिलने से बुधवार से हमने सेवाएं बंद कर दी है।
सूत्रों का कहना है कि एविएशन कंपनी ने सात मिनट की राइड के लिए प्रति
व्यक्ति पांच हजार रूपये किराया वसूलता  बजट भारी पड़ने से भी लोगों की
रुचि हवाई सैर में नहीं रही।हनुवंतिया में जल और जमीनी गतिविधियों के साथ
ही पर्यटकों के लिए यहां आसमान से भी प्राकृतिक नजारे देखने और हवाई सैर
के लिए हेलीकाप्टर की जाय राइड पर्यटन विकास निगम द्वारा प्रारंभ करवाई
गई थी।
हनुवंतिया में अधिकांश स्थानीय सैलानी सैर-सपाटे के लिए परिवार के साथ
पहुंचते हैं। मोटर बोट और अन्य राइड की सवारी की तुलना में हेलीकाप्टर की
सवारी आम लोगों को भारी पड़ने से लोग चाहकर भी इसका लुत्फ नहीं उठा पा रहे
थे।
पर्यटन विकास निगम के प्रबंधक यू आर पडौले ने कहा कि कंपनी को आपेक्षित
उडान नहीं मिल सकी। मेरे संज्ञान में आया है कि बुधवार से  कंपनी ने उडान
बंद कर दी है।