हमारा घर-हमारा विद्यालय में उत्कृष्ट प्रदर्शन पर मिला सम्मान

7:59 pm or April 6, 2021
हमारा घर-हमारा विद्यालय में उत्कृष्ट प्रदर्शन पर मिला सम्मान
मोहम्मद सईद
शहडोल 6 अप्रैल अभीतक। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण सभी स्कूलों के बंद होने पर डिजिटल तरीके से पढ़ाई पर जोर दिया गया और छात्रों को की ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की गई। इसी बीच प्रदेश सरकार द्वारा हमारा घर-हमारा विद्यालय कार्यक्रम संचालित किया गया। इसमें शिक्षकों को बच्चों के घर में जाकर उन्हें डिजिटल के माध्यम से क्लास से संचालित कर पढ़ाना था। जिले के कई शिक्षक ऐसे हैं जिन्होंने हमारा घर-हमारा विद्यालय कार्यक्रम के अंतर्गत उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। इन शिक्षकों के बेहतरीन कार्यों को देखते हुए राज्य शिक्षा केंद्र के संचालक ने उन्हें प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया है। इसके अलावा 2 शिक्षक नेशनल स्कूल टीचर अवार्ड से भी सम्मानित हुुए हैं।
मोहल्ला क्लास से जोड़ा बच्चों को
शिक्षक सुरेश कुमार कुशवाहा को हमारा घर हमारा विद्यालय में 80 प्रतिशत बच्चों को मोहल्ला क्लास से जोड़ने, डीजी लिप वीडियो को प्रतिदिन बच्चों को स्वयं के मोबाइल फोन से दिखाने और निष्ठा डायरी का निर्माण करने के लिए प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया है। शिक्षक आलोक कुमार त्रिपाठी को 80 प्रतिशत बच्चों को मोहल्ला क्लास से जोड़ने और डीजी लिप वीडियो को प्रतिदिन बच्चों को दिखाने पर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया है।
इसी तरह शिक्षिका श्रीमती दक्षिणा तिवारी को हमारा घर-हमारा विद्यालय में मोहल्ला क्लास का आयोजन करने और टीवी प्रोग्राम से 70 प्रतिशत बच्चों को जोड़ने पर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया है। शिक्षक दीपक द्विवेदी को सीएम राइज प्रशिक्षण डायरी का निर्माण करने और डीजी लिप वीडियो को प्रतिदिन अपने मोबाइल से बच्चों को दिखाने के लिए प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया है। इसके अलावा शासकीय मिडिल स्कूल जरवाही में पदस्थ शिक्षक हरेराम सिंह और शासकीय मिडिल स्कूल कटकोना में पदस्थ शिक्षक विजय कुमार साहू को कोरोना काल के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने पर नेशनल स्कूल टीचर अवार्ड से सम्मानित किया गया है।
प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में चला कार्यक्रम
शहडोल संभाग के प्रभारी कमिश्नर अमर सिंह, कलेक्टर डॉ सत्येंद्र सिंह और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मेहताब सिंह के मार्गदर्शन व जिला शिक्षा केंद्र के जिला परियोजना समन्वयक डॉ एम के त्रिपाठी के नेतृत्व में जिले की 1627 प्राथमिक विद्यालय एवं 498 माध्यमिक विद्यालयों में हमारा घर हमारा विद्यालय के तहत विभिन्न कार्यक्रम संचालित है। इसी क्रम में करोना काल के दौरान जिले के समस्त विद्यालयों के 6757 कक्षों में रंग-रोगन तथा विद्यालयों के कक्षों में 13608 पंखे लगाये गये है। जिले में करोना काल के दौरान समय-सीमा में निःषुल्क पाठ्य-पुस्तक का वितरण तथा अभ्यास पुस्तिका का वितरण घर-घर जाकर षिक्षकों द्वारा वितरण किया गया है। साथ ही व्हाट्सप आधारित मूल्याकंन भी किया गया है। प्रतिभा पर्व के तहत कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों का अर्धवार्षिक मूल्याकंन माह जनवरी में तथा वार्षिक मूल्याकंन फरवरी माह के अंत में किया गया है। उपरोक्त विषयों के अतिरिक्त मूल्याकंन परिणाम भी समय में 31 मार्च को घोषित करते हुए बच्चों को प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया तथा प्रत्येक विद्यालय के टापर 3 एवं 5 बच्चों को सम्मानित किया गया है।
जिला परियोजना समन्वयक डॉक्टर त्रिपाठी ने बताया कि कि शिक्षा का उद्देष्य पालकों को उनके बच्चों के शैक्षणिक स्तर की जानकारी प्रदान करना है। साथ ही विद्यालय के अकादमिक मुद्दों से अवगत कराकर सुझाव प्राप्त करना तथा छात्रों को उनके शैक्षणिक स्तर सुधार हेतु उनके पालको को जागरूक करना तथा जिले में अभिवावकों भागीदारी पारदर्षी तथा विधिवत ढ़ग से सम्पादित होने हेतु उपरोक्तानुसार  जिले में चुष्त-दुरूस्त व्यवस्था बनाई गई है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *