हादसा ; पुलिस ने बदला कम्प्यूटर बाबा की कार को टक्कर मारने वाला आरोपी

मयंक शर्मा
खंडवा २४ अक्टूबर ;अभी तक;  कम्प्यूटर बाबा की कार को टक्कर मारने वाले आरोपी कंटेनर ड्राइवर
को निंबोला थाना पुलिस ने दूसरे दिन बदल दिया। मुख्य आरोपी को क्लीनर व
ट्रक मालिक को ड्राइवर बता दिया था।  कोर्ट में पेशकर एक हजार रुपए का
जुर्माना लगाकर जमानत पर छोड़ दिया गया। कम्प्यूटर बाबा ने घटना के दिन
हादसे को साफ तौर पर हत्या  की साजिश बताया था। ऐसे में आरोपी का नाम
बदलने से पुलिस की जांच संदेह के घेरे में खडी हो गयी है।
               कम्प्श्ूटर बाबा ने बताया कि 18 अक्टूबर को वे ा अन्य संतों के साथ
बुरहानपुर से कार एमपी-04-बीसी-7343 से जोबट जा रहे थे। बुरहानपुर के
समीन  झिरी स्थित सहकारी  शक्कर कारखाने के सामने खंडवा की ओर से आ रहे
कंटेनर आरजे-18-जीबी-5838 ने दोपहर 12.20 बजे उनकी कार को जोरदार टक्कर
मार दी थी। कारखाने के सीसीटीवी फुटेज में नजर आ रहा है कि कंटेनर से
दिव्यांग ड्राइवर उतरा और भागने की कोशिश करने लगा। उसे लोगों ने पकड़कर
पुलिस के सुपूर्द कर दिया था। निंबोला थाना पुलिस ने घटना की शाम 7 बजे
हरियाणा के उमरवास निवासी रविकुमार पिता महेंद्रसिंह नायक से वाहन का
जब्तीनामा बनाया।
              घटना के तीसरे दिन याने 20 अक्टूबर को दोपहर 2 बजे सेहिकला सूरजगढ़ के
रोहिताश पिता प्रसादाराम का दूसरा जब्तीनामा बनाया। निंबोला पुलिस ने
एफआईआर में रोहिताश को ड्राइवर दर्शाया। जबकि घटना के दिन रोहिताश मौके
पर नहीं था। रोहिताश खुद को ट्रक मालिक और ड्राइवर बता रहा है। आरोपी रवि
को क्लीनर बता रहा है। रवि एक पैर से दिव्यांग है। इसके साथ ही उसके पास
हैवी वाहन चलाने का लाइसेंस भी नहीं था।बदलाव ने मामले  में पेच खडे कर
दिये है।  पुलिस की उत्ताोत्तर कारध््राही जारी है। मामले में जो कथन
सामने आये  है उसे परखे-
0  पिटाई के डर से ं इंदौर भाग गया था
             घटना के दिन मैं पिटाई के डर से इंदौर भाग गया था। मेरे विकलांग खलासी को
पुलिस ने पकड़ा था। दो दिन इंदौर में रहकर वापस पुलिस थाने पहुंचा था। मैं
ट्रक मालिक और ड्राइवर हूं। जुर्माना देकर जमानत पर छूट आए हैं।
-रोहिताश पिता प्रसादाराम, आरोपी
0ये बोले।
क्लीनर विकलांग था। जिसे लोगों ने पकड़ लिया था। लोग मार रहे थे, इसलिए
ड्राइवर फरार हो गया था। 2 दिन बाद आया। नामजद केस दर्ज किया है। अलग-अलग
दिन 2 जब्तीनामा बनाए। वन साहब व टू साहब को भी बता दिया है। -बालकृष्ण
पटेल, थाना प्रभारी, निंबोला
0ये भी बोले।
वीडियो में दिख रहा। कंटेनर से अकेला ड्राइवर भाग रहा था। तुरंत उसे पकड़
भी लिया था। दूसरा कहां से आ गया। हमें मिली एफआईआर में आरोपी का नाम ही
नहीं है। यह गलत हो रहा है। कोई न कोई फंस रहा है। इसलिए यह हरकत हो रही
है।पुलिस हेरफेर कर रही है। भाजपा के दबाव में नहीं करना चाहिए। माहौल को
बदलना चाहती है। साधु-संतों पर अत्याचार हो रहा है। मुख्यमंत्री से मांग
की है कि जांच होना चाहिए।
-कम्प्यूटर बाबा उर्फ नामदेव दास त्यागी