९ दुकानें नियम विरूद्ध नीलाम कर ३४.२९ लाख रूपये की अनियमितता

3:34 pm or November 3, 2022

मयंक भार्गव

बैतूल ३ नवंबर ;अभी तक;  जनपद पंचायत आमला की ग्राम पंचायत बोरदेही मेें ग्राम पंचायत द्वारा निर्मित दुकानों की नीलामी में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। दुकानों की नीलामी में हुई अनियमितता की शिकायत मिलने पर जिला पंचायत सीईओं के निर्देश पर जनपद पंचायत आमला के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा पंचायत समन्वय अधिकारी से जांच करवाई थी। जांच में खुलासा हुआ कि तात्कालीन सरपंच एवं पंचायत सचिव द्वारा वर्ष २०१९ में ग्राम पंचायत की निर्मित ९ दुकानों की नियम विरूद्ध नीलामी ४४ लाख २९ हजार रूपए अधिकतम बोली पर की थी। नीलामी से प्राप्त ३९ लाख ८४ हजार २०० रूपए ग्राम पंचायत में जमा किये गये तथा उक्त राशि में से ३४ लाख २९ हजार ९७८ रूपये ८ कार्याे पर नियम विरूद्ध व्यय कर वित्तीय अनियमितता की गई। जांच प्रतिवेदन में पायी गई वित्तीय अनियमितता के लिए दोषी तात्कालीन सरपंच श्रीमति सुशीला पति जुगलकिशोर सूर्यवंशी, पंचायत सचिव परमानंद पुण्डे सहित अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने के लिए जिला पंचायत सीईओ बैतूल अभिलाष मिश्रा ने आमला जनपद पंचायत सीईओ को निर्देश दिये है।

दुकानों की नीलामी के लिए कलेक्टर से नहीं ली अनुमति

उल्लेखनीय है कि मप्र पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम १९९३ की धारा ६५ एवं मप्र पंचायत (स्थावर सम्पत्ति का अंतरण) नियम १९९४ के तहत ग्राम पंचायत द्वारा निर्मित स्थाई सम्पत्ति का अंतरण में तीन वर्ष से अधिक कालावधि पर दुकानों की नीलामी के अधिकार कलेक्टर को है। दुकानों की नीलामी के लिए कलेक्टर की अनुमति लेना प्रावधानित है। परन्तु ग्राम पंचायत बोरदेही की तात्कालीन सरपंच श्रीमति सुशीला पति जुगल किशोर सूर्यवंशी तथा पंचायत सचिव परमानंद पुण्डे द्वारा कलेक्टर को प्राप्त अधिकारों का उल्लंघन कर विगत ४ वर्ष पूर्व ९ दुकानों की नीलामी नियम विरूद्ध की गई थी। जांच प्रतिवेदन में पाई गई वित्तीय अनियमितता पर संबंधित दोषियों के विरूद्ध संबंधित पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश जिला पंचायत सीईओ ने जनपद पंचायत आमला के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को दिये है।

निरस्त कर दिया नीलाम दुकानों का आवंटन

ग्राम पंचायत बोरदेही के तात्कालीन सरपंच एवं दुकानों की नीलामी/आवंटन मप्र पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम १९९३ की धारा ६५ एवं मप्र पंचायत (स्थावर सम्पत्ति का अंतरण) नियम १९९४ के विपरीत होने के कारण उक्त दुकानों की नीलामी/आवंटन निरस्त कर ग्राम पंचायत की दुकानों को दुकानें नीलाम/आवंटन की कार्यवाही पूर्णकर अनुमति प्राप्त करने के लिए मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आमला को निर्देश दिये गये है।