1.60 लाख हेक्टेयर में हुई रबी फसलों की बोवनी

मयंक भार्गव

बैतूल १६ नवंबर ;अभी तक;  त्यौहारी सीजन खत्म होते ही रबी सीजन फसलों की बोवनी ने रफ्तार पकड़ ली है। उपसंचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास बैतूल श्री भगत के मुताबिक जिले में अभी तक 1 लाख 60 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में रबी सीजन फसलों की बोवनी हो चुकी है। जो लक्ष्य का 46 फीसदी है। डीडीए ने बताया कि लगभग एक लाख दस हेक्टेयर में गेहूं, 45 हजार हेक्टेयर में चना तथा 5 हजार हेक्टेयर में अन्य फसलों की बोवनी हुई है। कृषि विभाग ने रबी सीजन में तीन लाख 48 हजार हेक्टेयर में बोवनी का लक्ष्य निर्धारित किया है। इधर बैतूल जिला प्रशासन, कृषि विभाग एवं जिला विपणन संघ के अधिकारियों द्वारा किये जा रहे विशेष प्रयासों से रबी सीजन के लिए जिले में विभिन्न रासायनिक खादों की सतत आपूर्ति हो रही है। जिससे सहकारिता एवं निजी क्षेत्रों के माध्यम से किसानों को रासायनिक खाद उपलब्ध कराई जा रही है। सोमवार को कृभको कंपनी की 2610 टन यूरिया रेल मार्ग से बैतूल पहुंची।

बुधवार को एक रेक यूरिया आयेगी

जिला विपणन संघ बैतूल के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आईपीएल कंपनी की एक रेक यूरिया बैतूल के लिए रवाना हो चुकी है। संभवत: बुधवार को 2600 टन यूरिया बैतूल पहुंच जायेगी। इसी सप्ताह एक रेक डीएपी या एनपीके खाद भी बैतूल आने की संभावना वितपण संघ के अधिकारियों द्वारा जताई जा रही है। रबी सीजन के लिए बैतूल जिले को अभी तक 1768 टन यूरिया, 7618 टन डीएपी, 4734 टन काम्प्लेक्स एवं अन्य खाद, 9008 टन सुपर फॉस्फेट तथा 968 टन पोटाश खाद प्राप्त हो चुकी है।

रासायनिक खादों की कमी नहीं आयेगी- डीडीए

उपसंचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग बैतूल ने दावा किया कि रबी सीजन में रासायनिक खादों की कमी नहीं आयेगी तथा किसानों को खाद की सहज उपलब्धता सुनिश्चित कराई जायेगी। डीडीए ने बताया कि कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस के विशेष प्रयासों से रबी सीजन में रासायनिक खादों की सतत आपूर्ति हो रही है। डीडीए के मुताबिक डीएपी की कमी के मद्देनजर किसानों को उसके पूरक के रूप में एनपीके उपलब्ध कराया जा रहा है। डीडीए श्री भगत ने बताया कि वर्तमान स्थिती में बैतूल जिले में सहकारिता एवं निजी क्षेत्रों 7182 टन यूरिया, 1779 टन डीएपी, 2140 टन काम्प्लेक्स, 5092 टन सुपर फॉस्फेट एवं 474 टन पोटाश खाद उपलब्ध है।