15 वर्षीय नाबालिका को हवस का शिकार बनाने के आरोपी  को 20 वर्ष का सश्रम  कारावास

मयंक शर्मा
खंडवा  ७ जनवरी ;अभी तक;   जिले के हरसूद न्यायालय के  पॉक्सो एक्ट के  विशेष न्यायाधीश आरोपी दिनेश उर्फ भुरू पिता चंपालाल उम्र 34 वर्ष निवासी ग्राम बमनगांव थाना हरसूद जिला खण्डवा को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 376 ( 3 ) में 20 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 1000 / रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया ।
                 शुक्रवार को न्यायालय द्वारा अपने निर्णय में उल्लेखित किया गया है कि दोषी दिनेश उर्फ भुरु ने पीड़िता के साथ ही बलात्संग किया है जो एक अवयस्क बालिका है । ऐसे कृत्य किये जाने के कारण दण्ड में नरम रूख अपनाने से अपराधियों के होसले बुलंद होंगे एवं समाज में उचित संदेश नहीं जायेगा , । दण्ड का उद्देश्य यह भी रहता है कि समाज में अन्य व्यक्तियों में इस प्रकार के कृत्य करने से भय उत्पन्न हो । फलतः दोषी के रखे गये तर्कों से
संतुष्ट नहीं होते हुये , दोषी नरम रूख अपनाने का पात्र नहीं रहता है ।
                  अभियोजन अधिकारी अनिल चैहान ने बताया कि घटना दिवस 10.06.2019 को पीड़िता के माता पिता बाजार गये थे , घर पर पीड़िता की बड़ी बहन थी । शाम को करीब 04 बजे पीड़िता उसके घर से उसके खेत में जो एक खेत छोड़कर है वहां शौच करने गई , तभी उसी समय उसके घर के पास में रहने वाला आरोपी दिनेश पीछे से आय और उसने पीड़िता का हाथ पकड़कर नीचे गिरा दिया और उसके साथ जबरदस्ती करने लगा तथा पीडिता को दो – तीन चाटे गाल पर मारे। पीड़िता के साथ उसकी इच्छा के विरुद्ध खोटा काम किया । पीड़िता की चिल्लाने की आवाज सुनकर उसकी बड़ी
बहन आ गई , जिसे देखकर आरोपी वहां से भाग गया । पीड़िता ने अपने माता – पिता के बाजार से आने के बाद घटना बताई और उनके साथ थाने जाकर रिपोर्ट लेखबद्ध करायी । हरसूद पुलिस द्वारा प्रकरण में विवेचना पूर्ण कर अभियोग पत्र न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया था।