15 वर्षीय मासूम बालिका का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 10 वर्ष के कठोर कारावास की सजा

महावीर अग्रवाल
मन्दसौर / उज्जैन  १७ नवंबर ;अभी तक;  न्यायालय श्रीमान जफर इकबाल, अपर सत्र न्यायाधीश महोदय बड़नगर जिला उज्जैन के न्यायालय द्वारा आरोपी बबलू उर्फ बुलबुल निवासी-उज्जैन को धारा 366 भादवि में 05 वर्ष का सश्रम कारावास एवं धारा 376(2)(एन) भादवि सहपठित धारा 5/6 पॉक्सो में 10 वर्ष का सश्रम कारावास एवं कुल 4,000/- रू0 के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।
     उप-संचालक अभियोजन डॉ0 साकेत व्यास ने अभियोजन की घटना अनुसार बताया कि फरियादी ने थाने पर प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध कराई कि दिनांक 23.07.2019 को फरियादी व उसका परिवार खेत पर काम करने गया था, जब घर वापस आया तो मेरी पत्नि ने बताया कि उसकी लडकी (पीड़िता) घर के बाहर बर्तन धोने आई थी, बहुत देर तक वापस नही आई तब मैने और मेरे लडके ने बाहर निकलकर देखा तो मेरी लडकी नही दिखी। कोई अज्ञात व्यक्ति मेरी लडकी को बहला फुसलाकर कही ले गया है। फरियादी की सूचना पर थाने पर अपराध को पंजीबद्ध किया गया। अनुसंधान के दौरान पीड़िता को दस्तयाब किया गया। पीड़िता द्वारा कथन में बताया कि बबलू उसे शादी का झांसा देकर मोटर साइकिल पर बैठाकर ले गया था। रास्ते में आरोपी अम्बाराम मिला था वह भी बबलू की मोटर साइकिल पर बैठा था और मुझे अम्बाराम के घर ले गये थे। एक रात अम्बाराम के घर रूके थे। वहॉ पर आरोपी बबलू ने उसके साथ गलत काम किया था। इसके बाद आरोपी उसे मंदसौर भी लेकर गया था। आवश्यक अनुसंधान के पश्चात् आरोपीगण बबलू एवं अम्बाराम के विरूद्ध अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया गया। न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्को से सहमत होकर आरोपी बबलू को दण्डित किया गया।
नोट:- आरोपी अम्बाराम को संदेह का लाभ देकर दोषमुक्त किया गया है।
न्यायालय द्वारा पीड़िता को दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 357-ए एवं पीड़ित प्रतिकर योजना  के अंतर्गत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को नालसा योजना के तहत पीड़िता को 04 लाख रूपये प्रतिकर दिलवाऐ जाने की अनुशंसा की है।
प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी श्रीमती भारती उज्जालिया, अपर लोक अभियोजक, तहसील बड़नगर जिला उज्जैन द्वारा की गई।