15 से 29 वर्ष के युवाओं दिया जाएगा कौशल प्रशिक्षण, जिले के तीन शासकीय विद्यालय को बनाया स्किल-हब विद्यालय

10:10 pm or December 29, 2021

नारायणगंज से प्रहलाद कछवाहा

मंडला  २९ दिसंबर ;अभी तक;  स्कूली और स्कूल छोड़ चुके बच्चों के कौशल विकास के लिए प्रशिक्षित करने जिले के तीन सरकारी स्कूलों को स्किल हब विद्यालय बनाया जा रहा है, जिससे बच्चों में कौशल विकास कर रोजगार के अवसर को बढ़ाया जा सके। यह प्रशिक्षण एक जनवरी से शुरू किया जाएगा। जिला शिक्षा अधिकारी व डीपीसी समग्र शिक्षा अभियान ने बताया कि  नवीन शिक्षा नीति 2020 में कौशल विकास एवं व्यवसाय प्रशिक्षण के अवसर प्रदान करने के लिए प्रदेश से चयनित जिले के तीन विद्यालय शासकीय कन्या उमावि बम्हनी बंजर, शास उत्कृष्ट उमावि बीजाड़झंडी एवं शास उमावि मोहगांव में व्यवसायिक शिक्षा के पायलट प्रोजेक्ट अंतर्गत स्किल हब के रूप में विकसित किया जा रहा है। स्किल हब प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत दिया जाएगा। यह प्रशिक्षण विद्यालय समय के बाद विद्यालय में अध्यापन विद्यार्थियों के अतिरिक्त स्कूल ना जाने वाली बाहरी बच्चों के लिए किया जाएगा।

एक ट्रेड के लिए 20 प्रशिक्षणार्थी का चयन :

एपीसी जिला परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा अधिकारी समग्र शिक्षा अभियान मुकेश पाण्डेय योजना ने बताया है कि इसका उद्देश्य बुनियादी सुविधाओं को साझा करना है, 15 से 29 आयु वर्ग के स्कूल छोडऩे वाले बच्चे ड्राप आऊट युवाओं के कौशल प्रशिक्षण आवश्यकता को पूरा करना और कुशल जनशक्ति तैयार करना है। स्किल हब राष्ट्रीय कौशल योग्यता फ्रेमवर्क के तहत नौकरी की आवश्यकताओं के आधार पर व्यवसायिक शिक्षा को बढ़ावा देना है। प्रत्येक स्किल हब विद्यालय में एक ट्रेड में कम से कम 20 प्रशिक्षणार्थी का चयन किया जाएगा, प्रत्येक बैच का आकार 20 से 40 प्रशिक्षणार्थियों का होगा।

छह माह का होगा प्रशिक्षण:

इस प्रशिक्षण के लिए छात्र का आठवी उत्तीर्ण होना आवश्यक है। प्रशिक्षणार्थी की उम्र 1 जनवरी 2022 को 15 से 29 वर्ष के बीच होना चाहिये। 3 से 4 वर्षों पूर्व के नौवीं के बाद अथवा 10वीं फेल शाला त्यागी विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जा सकता है। इस योजना के तहत शाला त्यागी बच्चों को फायदा मिलेगा। प्रशिक्षण की अवधि 6 माह की है।

जिला कौशल समिति का गठन :

स्किल हब स्थापना के लिए जिला कौशल समिति का गठन किया जा रहा है। जिसमें अध्यक्ष जिला कलेक्टर, संयोजक प्राचार्य संबंधित विद्यालय एवं सदस्य महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र राज्य कौशल विकास मिशन द्वारा नामांकित व्यक्ति, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला स्तरीय श्रम विभाग का नामांकित व्यक्ति, जिला स्तरीय उद्यमिता विकास संस्थान, प्रबंधक जिला अग्रणी बैंक द्वारा नामांकित व्यक्ति, संभाग अथवा जिला स्तरीय व्यवसायिक समन्वयक को बनाया गया है।