2 सचिव, 3 जीआरएस सहित सरपंच, ब्लाक समन्वयक के खिलाफ होगी एफआईआर

मयंक भार्गव

बैतूल १६ जून ;अभी तक;  जनपद पंचायत मुलताई अंतर्गत ग्राम पंचायत सांईखेड़ा में लगभग 25 लाख रुपए की वित्तीय अनियमितता के मामले में दोषियों पर कार्यवाही नहीं होने के बारे में दैनिक राष्ट्रीय जनादेश में प्रकाशित खबर पर संज्ञान लेकर कलेक्टर अमनबीर ङ्क्षसह बैंस ने जिला पंचायत सीईओ बैतूल को दोषियों के खिलाफ तत्काल कार्यवाही के लिए आदेशित किया था। कलेक्टर के आदेश के परिपालन में जिला पंचायत सीईओ बैतू एमएल त्यागी ने 15 जून को सीईओ जनपद पंचायत मुलताई को ग्राम पंचायत सांईखेड़ा के सरपंच/प्रधान ग्राम पंचायत सचिवों, प्रभारी ग्राम पंचायत सचिवों एवं ब्लाक समन्वयक द्वारा की गई वित्तीय अनियमितता पर आपराधिक प्रकरण दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं। जनपद पंचायत मुलताई सीईओ द्वारा उक्त प्रकरण में एक-दो दिन में एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी।

निर्माण कार्यों, करारोपण, बाजार वसूली में की थी अनियमितता

जनपद पंचायत मुलताई की ग्राम पंचायत सांईखेड़ा में हुई वित्तीय अनियमितता की शिकायत की जांच के लिए जनपद पंचायत स्तरीय अधिकारियों की टीम गठित की गई थी। जांच दल द्वारा की गई गहन जांच पड़ताल के बाद प्रस्तुत जांच प्रतिवेदन में ग्राम पंचायत सांईखेड़ा की सरपंच/प्रधान, पंचायत सचिवों, प्रभारी पंचायत सचिवों एवं ब्लाक समन्वयक(एसबीएम)द्वारा निर्माण कार्यों, पंचायत करारोपण तथा बाजार वसूली की शासकीय धनराशि का दुरूपयोग करते हुए 25 लाख 34 हजार 343 रुपए की वित्तीय अनियमितता करना प्रथम दृष्टया पाया गया था। जांच प्रतिवेदन में दोषियों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करना तथा उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करना प्रस्तावित किया था।

जनपद सीईओ को दिए एफआईआर के निर्देश

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत बैतूल एमएल त्यागी ने 15 जून को जनपद पंचायत मुलताई के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को पत्र भेजकर ग्राम पंचायत सांईखेड़ा के सरपंच/ प्रधान, ग्राम पंचायत सचिवों, प्रभारी ग्राम पंचायत सचिवों एवं ब्लाक समन्वयक द्वारा की गई वित्तीय अनियमितता पर आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए थे। जिला पंचायत सीईओ ने मुलताई जनपद सीईओ को निर्देश दिए हैं कि वे स्वयं जांच प्रतिवेदन का परीक्षण कर दोषियों के विरूद्ध संबंधित पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाने संबंधी कार्यवाही नियमानुसार करें। जिला पंचायत सीईओ के निर्देश के बाद अब ग्राम पंचायत सांईखेड़ा में 25 लाख 34 हजार रुपए के वित्तीय अनियमितता के मामले में मुलताई जनपद सीईओ द्वारा ग्राम पंचायत सांईखेड़ा की सरपंच/प्रधान मंदा वट्टी, तात्कालीन पंचायत सचिव संतोष हुरमाड़े, सोनोरी फरकाड़े, तात्कालीन प्रभारी पंचायत सचिव चंद्रभान गावंडे(जीआरएस), सूर्यभान अड़लक(जीआरएस), श्री सूर्यवंशी (जीआरएस) एवं स्वच्छ भारत अभियान के ब्लाक समन्वयक प्रकाश चौधरी के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करवाया जाएगा। उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत सांईखेड़ा में हुई वित्तीय अनियमितता के दोषियों के विरूद्ध पंचायत राज ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की धारा 92 अंतर्गत वसूली प्रकरण जिला पंचायत सीईओ कार्यालय में दर्ज किया गया है।

एफआईआर दर्ज कराएंगे: जनपद सीईओ

जनपद पंचायत मुलताई के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मनीष शेंडे ने बताया कि ग्राम पंचायत सांईखेड़ा में हुई वित्तीय अनियमितता के मामले में एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश का पत्र 15 जून को मेल से प्राप्त हुआ है। बुधवार को उक्त मामले में दोषी पाए गए सरपंच/प्रधान, पंचायत सचिव, प्रभारी पंचायत सचिव (जीआरएस) एवं ब्लाक समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन के विरूद्ध थाने में एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।