4 बच्चियों की नहर में डूबने मौत ; परमशक्ति पीठ आश्रम के एक नामजद सेवादार पर केस दर्ज

5:31 pm or August 2, 2022
खंडवा २ अगस्त ;अभी तक; 20 अप्रैल को तड़के ओंकारेश्वर के कोठी ग्राम में स्थित साध्वी ऋतम्भरा के
परमशक्ति पीठ आश्रम की 4 बच्चियों की माैत नहर में डूबने से हो गई थी।
चारों बच्चियां आदिवासी वनग्रामों से थी जाे आश्रम में रहकर पढ़ाई करती
थी। इस दर्दनाक और रहस्यमयी हादसें की फाइल पुलिस दबाती रही। दो दिन पहले
मृतक बच्चियों के परिवार जन ने ओंकारेश्वर हाइवे पर चक्काजाम किया था।
इसके बाद पुलिस हरकत में आई और आश्रम के एक नामजद सेवादार पर केस दर्ज
किया।
                    थाना मांधाता की सब इंस्पेक्टर दीपिका लोखंडे ने परमशक्ति पीठ के
कर्मचारी पूनमसिंह पिता गिरिजाशंकरसिंह निवासी कोठी व अन्य एक पर धारा
304 ए के तहत प्रकरण दर्ज किया है। घटना 24 अप्रैल सुबह 7 बजे की थी। जब
आरोपियों ने आश्रम की बच्चियों को अनुमति देकर नहर पर जाने के गेट खोल
दिया। जिससे नहर में नहाते से डूबने से चार बच्चियों प्रतिज्ञा पिता
छमिया भिलाला 11 सालए दिव्यांशी पिता चेतन सोलंकी 11 सालए अंजना पिता
रमेश भिलाला 10 साल तथा वैशाली पिता नवल भिलाला 11 साल की मृत्यु हो गई
थी।
आदिवासी बच्चियों की मौत पर जिम्मेदार आश्रम प्रबंधन पर कोई कार्रवाई न
होने के कारण जयस ने विरोध किया। 30 जुलाई को जय आदिवासी संगठन के
कार्यकर्ताओं ने भारी संख्या में एकजुट होकर कोठी स्थित आश्रम के बाहर
ओंंकारेश्वर मार्ग पर चक्काजाम कर दिया था। इस आंदोलन में मृतक बच्चियों
के परिवारजन भी शामिल हुए थे। एसडीएम की समझाइश के बाद चक्काजाम खत्म हुआ
था।