54 घंटे बाद न्यायालय के बाबू की मौत पर सस्पेंस बरकरार पुलिस को आर्मी जवान की पत्नी के होश में आने का इंतजार

भिंड से डॉ रवि शर्मा

भिंड २८ मई ;अभी तक; भिंड देहात थाना अंतर्गत रतनपुरा फल मंडी के पास एक घरर्म में घायल महिला और एक युवक की लाश मिलने की गुत्थी 54 घंटे बाद भी अंशुल जी हुई है इस मामले में पुलिस आर्मी की घायल पत्नी के होश में आने का इंतजार कर रही है साथ ही तब तक यह तकनीकी साक्षी जुटाने पर जोर दे रही है और महिला के पड़ोसियों से भी गोपनीय पूछताछ कर रही है ।

25 मई मंगलवार की रात तकरीबन 8:30 बजे रतनपुरा फल मंडी के पास एक आर्मी के जवान के घर में उसकी पत्नी घायल अवस्था मैं मिली थी जबकि उसके बेडरूम में न्यायालय से बर्खास्त बाबू की मौत हो जाती । साथ ही इस इलाके पास में पुलिस कोई खत भी मिला था ।यह घटना  24 मई सोमवार रात की बताई जा रही है ;

पुलिस ने इस मामले में घायल महिला की भाई की फरियाद पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया है घायल महिला का ग्वालियर के एक निजी नर्सिंग होम में उपचार चल रहा है पुलिस उसके होश में आने का इंतजार कर रही है इधर उसी घर में न्यायालय से निलंबित बाबू नरेंद्र ओझा 30 वर्ष निवासी डबरा जिला दतिया की लाश मिलने के मामले में दीपक यादव की फरियाद पर मर्ग कायम कर प्रकरण विवेचना में ले लिया है । पुलिस इस हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के लिए हर एंगल पर काम कर रही है लेकिन अब तक कोई लीड नहीं मिल पाई है कमरे मैं मिली बैग मेरठ के जिंदा कारतूस फौजी के घर में पुलिस को जिस कमरे में युवक की लाश मिली है उस कमरे में पुलिस को एक व्यक्ति मिला है जिसमें चार जिंदा कारतूस मिले हैं इसके अलावा मृतक के मोबाइल की कॉल हिस्ट्री भी डिलीट मिली है कायर महिला का मोबाइल स्विच ऑफ मिला है जिससे पुलिस का शक और अधिक गहरा रहा है एसपी मनोज कुमार सिंह ने इस हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने की जिम्मेदारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमलेश कुमार खर उस  को दी है उनके साथ सीएसपी आनंद राज डीएसपी हेडक्वार्टर मोती लाल कुशवाहा और देहात थाना प्रभारी ज्ञानेंद्र सिंह की टीम इस मर्डर केस को को सुलझाने में जुटी है