मध्यप्रदेश नागरिक आपूर्ति निगम में तबादलों की झड़ी लगी

6:08 pm or June 4, 2022

आनंद ताम्रकार

बालाघाट ४ जून ;अभी तक;  मध्यप्रदेश नागरिक आपूर्ति निगम भोपाल में तबादलों की झड़ी लगी हुई है। एक ही दिन 3 जून 2022 को प्रबंधक संचालक श्री तरुण कुमार पिथोडे द्वारा 3 तबादला आदेश जारी हुए जिनमें प्रबंधक संचालक को संशोधित आदेश निकालना पडा।

            ताबड़तोड़ निकाले गये इन आदेशों की वजह रायसेन में पदस्थ प्रभारी जिला प्रबंधक विवेक रंगारी द्वारा उनके विरुद्ध पत्नी के नाम वेयर हाउस बनाने और पत्नी के नाम पर विभाग में वाहन किराये पर लेने की शिकायत के संबंध में पूछताछ और शिकायत की पुष्टि करने गये दी सूत्र न्यूज पोर्टल विवेक रंगारी एवं संवाददाता राहुल शर्मा के बीच हुए वार्तालाप तथा रकम देने की पेशकश कर समाचार प्रकाशित न करने संबधित खबर वायरल होने से निगम की बदनामी और अपनी नाक बचाने की गरज से आनन फानन में ऐसे आदेश जारी किये गये है।

दिनांक 3 जून 22 को पत्र क्रमांक 538 के आदेश में यह उल्लेखित है की दिनांक 1 जून 2022 आदेश 524 के अनुसार मुकुल त्रिपाठी प्रभारी जिला प्रबंधक बालाघाट को स्थानांतरित कर जिला प्रबंधक रायसेन पदस्थ किया गया है। उक्त आदेश में संशोधन कर मुकुल त्रिपाठी को प्रभारी जिला प्रबंधक डिंडोरी के पद पर पदस्थ किया जाता है। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होगा।

पत्र क्रमांक 539 दिनांक 3 जून 2022 को जारी आदेश के अनुसार मुख्यालय आदेश क्रमांक 524 दिनांक 1 जून 2022 के अनुसार विवेक रंगारी प्रबंधक व्यवसाय प्रभारी जिला प्रबंधक रासयेन को स्थानांतरित करते हुये प्रभारी जिला प्रबंधक बालाघाट के पद पद पदस्थ किया गया था। उक्त आदेश में संशोधन करते हुए विवेक रंगारी को स्थानांतरित करते हुए प्रभारी जिला प्रबंधक खरगोन के पद पद पदस्थ किया जाता है।

इन आदेशों के बाद अब पत्र क्रमांक 540 दिनांक 3 जून 2022 के अनुसार प्रबंधक संचालक श्री   पिथोडे  ने पीयूष माली जिला प्रबंधक डिंडोरी को जिला प्रबंधक बालाघाट के पद पर पदस्थ किया है। तीनों आदेशों में तबादलो पीछे प्रशासनिक कारण बताये गये हो लेकिन इनके पीछे की हकीकत कुछ और है।

यह उल्लेखनीय है की मध्यप्रदेश में बालाघाट जिला सर्वाधिक धान उत्पादक जिला है वहीं प्रमुख चांवल का उत्पादन भी इसी जिले में होता है सरकारी धान से कस्टम मिंलिग कर भारी मात्रा में चांवल का उर्पाजन भी इसी जिले से होता है।

विभागीय सूत्रों के अनुसार बालाघाट जिले में जिला प्रबंधक के पद पर पदस्थ होने के लिये भारी चढौत्तरी समर्पित करना होती है। चांवल खरीदी की आड़ में प्रति लाट 7 हजार रूपये का कमीशन गुणवत्ता निरीक्षक के माध्यम से राईस मिलर्स से वसूला जाता है इस प्रकार करोडों रूपये का खेल कस्टम मिंलिग से चांवल उर्पाजन के आड में कई वर्षों से खेला जा रहा है।

इन्हीं विसंगतियों के चलते निगम के अधिकारियों तथा राईस मिलर्स और गुणवत्ता निरीक्षकों की सांठगांठ से करोड़ों रुपयों का मुर्गी दाना और पशु आहार तुल्य चावल निगम के द्वारा खरीदा गया था इस मामले में राइस मिलर्स तथा निगम के अधिकारी,कर्मचारियों पर प्राथमिकी दर्ज हुई जिसकी अभी जांच चल रही है।

और तो और सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से जो खादन्न उपभोक्ताओं को फ्री बाटा जा रहा है वह काला बाजार में बेचा जाकर राईस मिलर्स के गोदाम में जमा हो रही है ये ही चावल कस्टम मिलिंग के माध्यम से इस सत्र में खरीदा जाना है। इन्ही सारी विसंगतियों एवं अनियमितताओं के लिये चर्चित आपूर्ति निगम में बदनामी पर पर्दा डाले रखने के लिये तबादलों के माध्यम से सेटिंग किये जाने का ज्वलंत सबूत है आनन फानन में किये गए तबादले?