9 हजार रु. की रिश्वत लेते धराया बीएमओ

2:47 pm or July 30, 2022

मयंक भार्गव

बैतूल ३० जुलाई ;अभी तक;  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को भोजन कराने वाले रसोईए के चार माह के बिल भुगतान करने के एवज में रसोईए से बीएमओ डॉ. अमित नागवंशी द्वारा रिश्वत की लगातार मांग की जा रही थी जिससे तंग आकर रसोईए राजेश हिंगवे ने इसकी शिकायत लोकायुक्त से की थी। शिकायत पर लोकायुक्त की टीम ने 9 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों मुलताई बीएमओ डॉ. अमित नागवंशी को दबोच लिया है। यह कार्यवाही उनके आवास पर की गई।

बिल भुगतान करने मांग रहे थे रिश्वत

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में बीएमओ के पद पर पदस्थ डॉ. अमित नागवंशी को रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा है। लोकायुक्त ने यह छापा डॉ. नागवंशी के घर पर मारा। बताया जा रहा है कि लोकायुक्त टीआई नीलम पटवा के नेतृत्व में टीम ने डॉ. अमित नागवंशी को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा है। रंगे हाथों 9 हजार रुपए की रिश्वत लेते पकडऩे के बाद टीम ने कार्यवाही की है। डॉ. अमित नागवंशी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के स्टाफ रसोइए राजेश हिंगवे का कार्य करने के नाम पर रुपए मांग रहे हैं जिसकी शिकायत पीडि़त ने लोकायुक्त से की थी। इसके बाद लोकायुक्त द्वारा यह कार्यवाही की गई है।

बीएमओ 20 हजार रु. की मांग रहे थे रिश्चत

बताया गया कि बीएमओ द्वारा अस्पताल के रसोइए राजेश हिंगवे से अस्पताल में गर्भवती महिलाओं को खाना खिलाने की एवज में टेंडर देने के नाम पर 20 हजार रुपए की रिश्वत मांगी गई थी। राजेश ने पूरे मामले की शिकायत लोकायुक्त टीम से की थी। इसके बाद लोकायुक्त की टीम ने मुलताई अस्पताल आकर बीएमओ अमित नागवंशी को रंगे हाथों पकड़ा है। इस कार्यवाही से स्वास्थ्य महकमे में हड़कम्प मचा हुआ है।

पहले दिए थे 3 हजार रुपए

इस मामले में टीआई नीलम पटवा ने बताया कि मेडिकल ऑफिसर डॉ. अमित नागवंशी शिकायतकर्ता से उसके चार माह के बिलों के भुगतान के एवज में पहले 20 हजार रुपए और बाद में 12 हजार रुपए की रिश्वत की मांग कर रहे थे। आवेदक ने इस मामले को 28 जून को लिखित शिकायत की थी।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुलताई में भर्ती मरीजों का भोजन बनाने का कार्य करता है जिसका भुगतान शासन द्वारा किया जाता है। शिकायतकर्ता ने 3 हजार रुपए पूर्व में दे दिए थे। आज शेष बची 9 हजार रु. रिश्वत की राशि बीएमओ को देने के दौरान लोकायुक्त छापामार कार्यवाही कर रंगे हाथों डॉ. अमित नागवंशी को दबोच लिया। लोकायुक्त टीम में उपपुलिस अधीक्षक संजय शुक्ला, निरीक्षक श्रीमती नीलम पटवा, रजनी तिवारी, विकास पटेल शामिल है।