तेज गर्मी से चीतों की मौत हुई है, कॉलर आईडी पर मक्खी के बैठना भी कारण -चिजय शाह

7:38 pm or August 6, 2023
मयंक शर्मा

खंडवा ६ अगस्त ;अभी तक; वन मंत्री विजय शाह ने कहा है कि  मध्य प्रदेश को लगातार तीसरी बार टाइगर स्टेट होने का दर्जा प्राप्त हुआ है। इतना ही नहीं इस समय मध्य प्रदेश टाइगर प्रोटेक्शन ही नहीं बल्कि उसकी जनसंख्या में भी सबसे अव्वल है।उन्होने बताया कि खंडवा जिले में  3 नए वन अभयारण्य बनेंगे। उन्होने  कहा कि नर्मदा घाटी मे जिले मे ं इंदिरा सागर बांध बनाने के बाद बड़ी संख्या में विस्थापन हुआ है। इसके बाद यहां पर नेशनल पार्क बनने की संभावना व्यक्त की जा रही थी। ऐसे में रिजर्व फॉरेस्ट बुरहानपुर, रिजर्व फॉरेस्ट ओंकारेश्वर और रिज़र्व फॉरेस्ट नर्मदा नगर आने वाले समय में हमारी योजना है कि हम इन्हें अभयारण्य बनाएंगे।

वन मंत्री ने कहा कि अभी भी वे अभयारण्य ही हैं सिर्फ नाम ही उनका अलग है। वहां रिजर्व फॉरेस्ट के नाम पर सभी प्रकार की व्यवस्थाएं हैं। उन्होंने कहा कि वन्य अभयारण्य बनाने जैसा बड़ा निर्णय बिना जिला पंचायत अध्यक्ष, विधायक और सांसद के मंजूरी के नहीं लिया जा सकता। हम सब की राय लेकर अगले साल 2024 में इस काम को पूरा करेंगे।

हाल ही में खंडवा प्रवास पर वन मंत्री शाह ने कूनो में हो रही चीतों की मौत पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि उनके अनुसार तेज गर्मी के चलते चीतों की मौत हुई थी। जिससे वे प्रेरणा लेकर अब उनके लिए और बेहतर इंतजाम करेंगे। और इसको लेकर उन्होंने अपने कुछ सुझाव भी दिए थे। मंत्री शाह ने बताया कि इनमे से किसी भी चीते की मौत भूख से नहीं बल्कि उनके कॉलर आईडी पर मक्खी के बैठने से हुई थी लेकिन इस मामले में विशेषज्ञ ही कुछ बता सकते हैं।

                           श्री शाह ने कहा कि भारत आए चीतों का सर्वाइवल रेट 50 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि दुनिया में यह पहली बार हुआ है जब चीते एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप में गए हैं। सामान्यतः चीते किसी अन्य जगह भी जाते हैं तो उनका सर्वाइवल रेट 50ः ही होता है। उन्होने कहा कि हाल ही में जो चीते के तीन शावक जो खत्म हुए हैं उन्हें हम गिनती में नहीं लेते। बाकी जो कॉलर आईडी लगा है जिस पर मक्खी बैठ गई है। किसी भी चीते की मौत भूख से नहीं हुई, ना ही किसी चीते की मौत एक्सीडेंट से हुई है। ना ही किसी चीते की मौत हमारी लापरवाही से हुई है। हर एक चीते की सुरक्षा पर एक सुबह एक शाम को गाड़ी लगी हुई है जो पूरा उसको मॉनिटरिंग करती है। उन्होंने कहा कि जितनी सुरक्षा उनकी है उतनी मेरी भी नहीं है। जल्दी ही हम चीतों को शिफ्ट करने का प्लान भी बना रहे हैं।
                           श्री शाह ने कह कि ं चीतों के जो बच्चे तेज गर्मी में मर गए उस समय टेंपरेचर 48 के करीब था। हम विशेषज्ञ नहीं हैं, जिन्होंने सुझाव दिए वे दुनिया के विशेषज्ञ हैं इसलिए मैं कुछ बोलूं और दुनिया के विशेषज्ञों पर टीका टिप्पणी करूं। जो भारत सरकार, मध्य प्रदेश सरकार के मापदंडों पर कार्य कर रहे हैं तो मेरा बोलना उचित नहीं होगा। मंत्री विजय शाह ने कहा कि 785 टाइगर होना बड़े गर्व की बात है। लेकिन मेरा दावा है कि प्रदेश में 1000 से ज्यादा टाइगर हैं। उन्होंने कहा कि होता यह है कि एक तरफ का फोटो आया एक तरफ का नहीं तो उसे गिनती में नहीं लिया जाता। कई बार शावकों की उम्र को लेकर भी कंफ्यूजन के चलते उन्हें गिनती में नहीं लिया जाता।

मंत्री विजय शाह ने विपक्ष पर भी निशाना साधा और कहा कि हम पर आरोप लगाते थे कि इतने टाइगर मर गए उतने टाइगर मर गए, लेकिन हमने कहा था कि हम अपने काम से जवाब देंगे। मोबाइल से जवाब नहीं देंगे। आज टाइगर के मामले में हम अपना कॉलर ऊंचा कर उन लोगों को जवाब दे रहे हैं।

                         वन मंत्री विजय शाह ने कहा कि हमारे कर्मचारी अधिकारी जी जान की बाजी लगाकर काम कर रहे हैं। हम उन्हें भी भोपाल बुलाकर पुरस्कृत करने का काम करेंगे। मंत्री ने कहा कि हम हमारे वन्यजीवों की केयर कैसे करते हैं यह आपको पार्क में देखना चाहिए। बच्चों से ज्यादा हम हमारे वन्यजीवों की केयर करते हैं।


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *