अवैध बूचडख़ाने का निरीक्षण करने पहुंची एसपी, अवैध संपत्ति की जांच के निर्देश

मयंक भार्गव

बैतूल ११ सितम्बर ;अभी तक;  शहर के बीचोबीच घनी आबादी के बीच दो मंजिला मकान में लंबे समय से चल रहे अवैध बूचडख़ाने पर गुरूवार को पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के बाद शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद भी बूचडख़ाने पहुंची। पुलिस अधीक्षक द्वारा अवैध बूचडख़ाने का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने बूचडख़ाना संचालक की संपत्ति और मकान में किए गए निर्माण की जांच करने के भी निर्देश दिए। इसके बाद कोतवाली पुलिस द्वारा नगरपालिका को पत्र लिखकर मकान के संबंध में जानकारी ली है। इसके साथ ही पुलिस ने एक आरोपी मुवीन पिता नसरू को पाढर क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। पुलिस दो आरोपियों की तलाश कर रही है। कोतवाली टीआई द्वारा की गई उक्त कार्रवाई सोशल मीडिया में सुर्खियों में रही।

ज्ञातव्य हो कि कोतवाली टीआई रत्नाकर हिंगवे द्वारा कोतवाली की कमान संभालने के चंद दिनों बाद ही कोतवाली थाने से कुछ मीटर दूरी पर तिलक वार्ड के घनी आबादी वाले दो मंजिला मकान में चल रहे अवैध बूचडख़ाने में छापा मारा था। पुलिस ने यहां से २६ गौवंश, ६५ किलो मांस और गौवंश की ९५ खाल के साथ ही कटर मशीन बरामद की थी। हालांकि पुलिस के पहुंचने की भनक लगते ही तीनों आरोपी फरार हो गए थे। जिसमें से एक आरोपी मोविन कुरैशी को पुलिस ने पाढर क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। गुरूवार को छापामार कार्रवाई के दूसरे दिन शुक्रवार को भी एसडीओपी नितेश पटेल के नेतृत्व में पुलिस बल अवैध बूचडख़ाना पहुंचा। गुरूवार को छापामार कार्रवाई के दूसरे दिन शुक्रवार को भी एसडीओपी नितेश पटेल के नेतृत्व में पुलिस बल अवैध बूचडख़ाना पहुंचा। पुलिस ने शुक्रवार को भी मकान की तलाशी ली लेकिन शुक्रवार को यहां कुछ भी नहीं मिला। पुलिस टीम के पहुंचने के कुछ देर बाद ही पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद भी मौके पर पहुंची। इस दौरान एसपी ने लगभग आधा घंटा रूककर यहां चल रही अवैध गतिविधियों का जायजा लिया। एसपी ने उक्त मकान की जांच नगरपालिका से करवाने के निर्देश भी दिए जिसमें नपा मकान में अवैध निर्माण की जांच करेगा। इसके साथ ही आरोपियों की संपत्ति की जांच करने के भी निर्देश दिए है। कोतवाली टीआई रत्नाकर हिंगवे ने बताया कि इस मामले में एक आरोपी मुवीन कुरैशी पिता नसरू कुरैशी को पुलिस ने पाढर के पास से गिरफ्तार किया है। श्री हिंगवे ने बताया कि अन्य आरोपियों की भी तलाश की जा रही है।

आरोपियों के मोबाइल की कॉल डिटेल निकालकर होनी चाहिए जांच

कोतवाली पुलिस द्वारा गुरूवार को की गई कार्रवाई सोशल मीडिया में सुर्खियों में रही। कुछ लोगों ने पुलिस कार्रवाई की सराहना की वहीं कुछ लोगों ने पुलिस पर कटाक्ष करते हुए शहर के बीचोबीच लंबे समय से बूचडख़ाना चलने पर मिलीभगत के आरोप लगाए। सोशल मीडिया पर एक जागरूक नागरिक ने यह भी लिखा कि इस मामले में आरोपियों के मोबाइल की कॉल डिटेल निकालकर जांच भी करनी चाहिए कि गौ मांस की सप्लाई कहां-कहां होती है। शहर की किसी होटल में भी गौ मांस की सप्लाई की जाती थी क्या? यह सब सार्वजनिक किया जाना चाहिए जिससे नागरिक ऐसी होटलों की सच्चाई जान सके।