कलेक्टर डॉ मिश्रा ने बिरसा जनपद कार्यालय का किया आकस्मिक निरीक्षण, एक कर्मचारी को निलंबित करने और जनपद सीईओ की 2 वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश 

आनंद ताम्रकार
बालाघाट ११ सितम्बर ;अभी तक;

    जिले के नवागत कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने 10 सितंबर को जनपद पंचायत कार्यालय बिरसा का आकस्मिक निरीक्षण किया और वहां की व्यवस्थाओं को देखा। इस दौरान बैहर एसडीएम श्री तन्मय वशिष्ठ शर्मा भी मौजूद थे।जनपद पंचायत कार्यालय के निरीक्षण के दौरान उन्होंने जनपद पंचायत के कार्य से संतुष्ट नहीं होने पर एक कर्मचारी को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं और जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अजीत बर्वा की 2 वेतन वृद्धि रोकने के आदेश दिए हैं।
    कलेक्टर डॉ. मिश्रा ने जनपद पंचायत बिरसा के निरीक्षण के दौरान स्थापना शाखा का निरीक्षण किया। स्थापना शाखा के अभिलेखों के निरीक्षण में पाया गया कि ग्राम पंचायतों के सचिवों की सेवा पुस्तिका 2 वर्ष से अधिक अवधि से अपूर्ण है। स्थापना शाखा का प्रभारी लिपिक भोजराज सेनभक्त अनुपस्थित पाया गया । इस पर उन्होंने स्थापना शाखा प्रभारी लिपिक भोजराज सेनभक्त को निलंबित करने और प्रभारी बीपीओ डिलन सिंह परते की 2 वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिए हैं।
आवेदक को लगाया फोन
     कलेक्टर डॉ मिश्रा ने सामाजिक न्याय शाखा के निरीक्षण के दौरान पाया कि पोर्टल पर संभावित पेंशन के पात्र 4000 से अधिक हितग्राहियों के पेंशन आवेदन लंबित हैं। पेंशन संबंधित प्रचलित नस्तियों के निरीक्षण में पाया गया कि पेंशन संबंधी आवेदन कई माह से लंबित है और शाखा में प्राप्त पेंशन संबंधी आवेदन के लिए कोई पंजी संधारित नहीं की जा रही है। ऐसे ही एक आवेदक ग्राम जानपुर के टिकेश चौधरी से उन्होंने फोन लगाकर बात की तो उसने बताया कि उसने नि:शक्त पेंशन के लिए वर्ष 2020 में आवेदन किया है और अब तक उसकी पेंशन स्वीकृत नहीं हुई है। कलेक्टर डॉ मिश्रा ने इस स्थिति पर गंभीर नाराजगी व्यक्त की और सामाजिक सुरक्षा विस्तार अधिकारी एन एस मरावी की परिवीक्षा अवधि 2 वर्ष और बढ़ाने के निर्देश दिए और  संबंधित ग्राम पंचायत के सचिव के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं ।
    निरीक्षण के दौरान पाया गया कि जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना की संक्षिप्त रिपोर्ट तैयार नहीं की गई है । इसी प्रकार जीपीडीपी शाखा के निरीक्षण में जनपद स्तरीय कार्य में स्टापडेम को शामिल किया जाना पाया गया। वर्ष 2020 से 2021 तक कैश बुक के संधारण में कमियां पाई गई और उसमें मुख्य कार्यपालन अधिकारी के हस्ताक्षर नहीं पाए गए । जनपद पंचायत में सांसद एवं विधायक निधि के कार्यों की जानकारी भी संधारित नहीं की जा रही थी। कलेक्टर डॉ मिश्रा जनपद पंचायत बिरसा की कार्यालय व्यवस्था से संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने जनपद पंचायत बिरसा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अजीत बर्वा की दो वेतन वृद्धि रोकने के आदेश दिए हैं और कार्यालय व्यवस्था में शीघ्र सुधार करने के निर्देश दिए हैं।