कार्यपालक मजिस्ट्रेट के सामने कब्र से निकाला गया महिला का शव

भिंड से डॉक्टर रवि शर्मा

भिंड १० जून ;अभी तक; भिंड जिले के भारौली थाना अंतर्गत सीताराम का पूरा में बुधवार सुबह करीब 9:00 बजे पुलिस फॉरेंसिंग दल के अलावा कार्यपालक मजिस्ट्रेट द्वारा रागिनी का सब कब्र से बाहर निकलवाया गया । इस प्रक्रिया में पूरे 3 घंटे लगे इस दौरान रागनी का पिता भी मौजूद था फिलहाल मामा बुद्धि सिंह के खिलाफ धारा 302 201 34 के तहत केस दर्ज किया गया है ।

खेत में दफना दिया गया था शव

डीएसपी हेड क्वार्टर मोती लाल कुशवाहा के अनुसार मृतका रागिनी का शव घर से करीब 500 मीटर दूर दाएं और एक खेत में दफनाया गया था रागिनी के पिता मान सिंह कुशवाहा निवासी देरोली पार जिला दतिया को साथ लेकर पुलिस मौके पर पहुंची और जहां रागनी को दफनाया था उसे खोदकर शव को बाहर निकाला गया । रागिनी के पिता मान सिंह कुशवाहा के आंखों के सामने जब बेटी के शव को जमीन से निकाला गया तो वह भावुक हो गए वह बार-बार बस यही कह रहा था जमीन के बंटवारे में मेरी बेटी की जान ले ली उसने बताया कि ससुर राम लखन कि तेरी के अगले दिन ही बंटवारे को लेकर साले मुनेश सिंह छोटे सिंह मोनू सिंह बुद्धू सिंह के बीच बंटवारे को लेकर विवाद शुरू हो गया था बुद्ध सिंह ने पिता रामलखन सिंह की बंदूक घर के अंदर से निकाल लाया और गोली चला दी पिता की निशानदेही पर निकाल मानसिंह कुशवाहा की निशानदेही पर पुलिस कर वैज्ञानिक अधिकारी तथा कार्यपालक मजिस्ट्रेट अरविंद शर्मा उस स्तर तक पहुंचे जहां रागनी के शव को दफनाया गया था दोपहर 12:00 बजे कब्र से शव निकालने के बाद उसे पीएम और डीएनए जांच के लिए भिजवाया गया फैसला सुनाने वाली पंचों की तलाश में है पुलिस मामा के हाथों गोली चलने से हुई भांजी की मौत पर 8 जून को पंचों द्वारा पंचायत के माध्यम से सुनाए गए आरोपी भाइयों को 45 दिन तक गांव से बाहर रहने वह गंगा स्नान कर लौटने पर कन्या भोज व भंडारा करने की सजा के फैसले में जो भी पंच शामिल रहे उन्हें नामजद करने के प्रयास तेज किए गए हैं 9 जून को कब्र खोदकर रागिनी के शव को बाहर निकलवाने की कार्रवाई में डीएसपी मोती लाल कुशवाहा के अलावा एफएसएल अधिकारी धरम वीर कपू र थाना प्रभारी बाल्मीकि चौबे प्रमुख रूप से मौजूद रहे