डेंगू के प्रदेश से ज्यादा मरीज मन्दसौर में है, डॉक्टर नही मिलने की बात पर कहा अस्पताल का निरीक्षण करूंगा

महावीर अग्रवाल
मन्दसौर ८ सितम्बर ;अभी तक;  डेंगू तेजी से फैल रहा है। स्वास्थ्य व मलेरिया विभाग के अधिकारियों से विस्तार से चर्चा हुई है। प्रदेश से ज्यादा डेंगू के मरीज मन्दसौर में है। डॉक्टर समय पर नही मिलने की बात पर कहा में अस्पतालों का निरीक्षण करूंगा और अधिकारियों को भी इसके लिए कहूंगा।
उक्त बात नवागत कलेक्टर श्री गोतमसिंह ने कंट्रोल रूम पर शांति समिति की बैठक के बाद पत्रकारों से अपनी पहली मुलाकात में कही। उन्होंने कहा कि मन्दसौर में मैं पहली बार आया हूं लेकिन पुराने कलेक्टर श्री मनोज पुष्प से बहुत सारी चीजों से अवगत हुआ हू। वो में दोनो 2011 आइएस बेच के है।
             उन्होंने कहा कि मन्दसौर मेरे लिए नया जिला है । मेरा प्रयास है कि साफ सुथरी व्यवस्था से कम करने की है। पहले जो व्यवस्था बनी हुई है ये बनी रहे तथा और जो बेहतर व्यवस्था करनी होगी तो वो की जाएगी।
            नवागत कलेक्टर श्री गोतमसिह ने सबसे महत्वपूर्ण इस बात को इंगित करते हुए कहा कि निर्णय लेने की प्रोसेस बहुत फास्ट होगी। जल्दी के कामो के लिए जल्दी करे। काम के लिए जिसका आवेदन पहले आया है उसका काम पहले होना चाहिए। एक जैसी परिस्थितियों में एक जैसा निर्णय होगा। उन्होंने नवागत एसपी श्री पांडे से अपनी पुरानी पहचान का जिक्र भी किया।
               पत्रकारों ने मन्दसौर में मेडीकल कालेज की जमीन को लेकर मुद्दा उठाते हुए कहा को भावी कालोनियों के हितों को ध्यान में रखने के कारण जमीन चयन का मामला अभी तक अधर में लटका है। उन्होंने कहा कि जमीन को लेकर जल्दी निर्णय लेने की कोशिश करूंगा।
              जिला पंचायत की जमीन के विक्रय किये जाने वाले मामले को भी पत्रकारों ने उठाते हुए कहा कि यह ओने पोने दामों में विक्रय तथा जिला पंचायत से इसकी सहमति भी नही ली गई है। इस पर कलेक्टर ने कहा कि इस मामले में प्रदेश में संपत्ति प्रबन्धक विभाग अलग से जो निष्प्रभावी जमीनों के मामले देखता है । जो शासन की जमीन पड़ी है उसे विकास के कामो में लगाने की योजना को देखता है।
तेलिया तालाब का मुद्दा भी पत्रकारों ने उठाया। यहां यह भी एक पत्रकार ने उन्हें बताया कि तेली समाज ने इस तालाब के लिए 484 बीघा जमीन दान में दी थी। एनजीटी के फैसले की भी चर्चा हुई । कलेक्टर ने कहा कि वह इस मामले को देखेंगे।
कलेक्टर ने कहा कि मन्दसौर को देखने के लिए यहां आना जरूरी है। यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं है। शिवना नदी के लिए भी उन्होंने कहा कि यहां खूबसूरत नदी भी है। यह भी कहा कि बिना ट्रीटेड चीजे नदी में नही जाए ऐसी कोशिश की जाए। इसके लिए बारिश के बाद 10 वर्ष की योजना बननी चाहिए।