दबंगों खिलाफ राजीनामा ना करने पर पुलिस ने की फरियादी की बेरहमी से पिटाई, वीडियो वायरल

भिंड से डॉ रवि शर्मा
भिंड ९ सितम्बर ;अभी तक; भिंड जिले के लहार विकासखंड रावतपुरा थाना अंतर्गत ग्राम किरावली निवासी एक 42 वर्षीय किसान को पुलिस ने दबंगों के खिलाफ दर्ज अपराधिक प्रकरण में राजीनामा नहीं करने पर थाने में बुलाकर उसकी पत्नी के सामने बेरहमी से पीटा । दहशत में आकर किसान ने आरोपियों से राजीनामा कर लिया फिर वहां से निकल गए विधायक गोविंद सिंह की शरण में और उनके निवास लहार में आपबीती सुनाई । कांग्रेस ने  आंदोलन करने की बात कही है ।
बहाना चाहिए था मारपीट के लिए भैंस के खेत में जाने पर हुआ था विवाद
कृषक ज्ञान सिंह बघेल निवासी किरावली में लहार विधायक पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह के आवास पर पहुंचकर बताया की 6 सितंबर की दोपहर अपनी पत्नी के साथ खेत पर भैंस चरा रहा था इसी दौरान उसकी भैंस गांव में ही रामजीलाल के खेत में चली गई । इसी बात पर रामजीलाल दोहे उनके परिवार के एक दर्जन लोगों ने उसकी मारपीट कर दी थी । ज्ञान सिंह बघेल के अनुसार रावतपुरा थाने में आरोपियों के खिलाफ दर्जएफ आई आर को खत्म कराने के उद्देश्य से 7 सितंबर की सुबह करीब 8:30 बजे आरोपियों ने पुलिस से मिलकर उससे राजीनामा का दबाव बनाने के लिए रावतपुरा थाने के आरक्षक आलोक सिंह राठौर महेंद्र सिंह गौरव सिंह उनके खेत पर भेजा जहां गया अपने खेत पर काम कर रहा था खेत पर ही उसकी मारपीट करने के बाद उसकी पत्नी सहित थाने ले गए । पुलिस ने पत्नी के सामने की पिटाई की । फरियादी की ज्ञान सिंह ने पूर्व मंत्री वर्तमान विधायक लहार डॉ गोविंद सिंह कोकिला बताते हुए का थाने में उसके कपड़े उतरवाकर बेरहमी से मारपीट की गई ।
               थाना परिसर में मारपीट किए जाने के दौरान उसकी पत्नी भी मौजूद थी जो अपने पति को छोड़ देने के लिए पुलिसकर्मियों के सामने देर तक गिर जाती है पुलिस राक्षसों की तरह बेरहमी से एक बेबस गरीब व्यक्ति को सिर्फ पुलिस ने सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने मात्र रुपए के बल पर उक्त घटना को अंजाम पुलिस कर्मियों द्वारा की गई मारपीट इससे प्रतीत होता है कि अब पुलिस भी बिकने लगी है जैसे भी थाना पुलिस क्या करें अधिकारियों की मोटी रकम वह उनके घरेलू सामान दाल धनिया मिर्ची नमक सहित हर महा वसूली करके आला अफसरों के घर पहुंचाना और ठेके पर दे दिए जाते हैं थाने पिछली बार कुछ वर्षों पूर्व पूर्व मंत्री लहार विधायक ने जब भिंड एसपी साजिद फरीद साहू इसी तरह की किसी वारदात के दौरान डॉक्टर गोविंद सिंह में प्रेस वार्ता में खुलकर कहा था भिंड जिले के थाने ठेके पर चलते हैं क्योंकि जो अच्छी रकम देगा उसे कमाऊ पूत थाना दे दिया जाता था और अभी भी है अगर स्टिंग ऑपरेशन किया जाए तो सबसे ज्यादा भ्रष्ट विभाग पुलिस विभाग पुलिस खुलेआम घूसखोरी का और दुकानदारों गैर कानूनी कार्य करने वालों को हर हफ्ता वसूली कर एक थाना प्रभारी से लेकर आरक्षक तक खुलेआम रिश्वत लेते भिंड जिले में दिखाई दे सकते हैं जब जेब में पैसे नहीं हुए गाड़ी रोड के किनारे खड़ी की हाईवे पर हजारों बार तो स्वयं देखकर रात्रि वसूली मैं फोटोग्राफ के शिकायतें भी वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंचाई परंतु पूरा कुरमा ही खराब हो उसे दोष नहीं दिया जाता ।
                घूसखोरी एक साधारण सी बात हो गई है पुलिस विभाग इसीलिए अब अपराधी खुलेआम भिंड जिले में अपराध करने में लगे हुए क्योंकि उन्हें छूट जो दे रखी है पुलिस को कहीं से भी लाओ कैसे भी लाओ पैसा लाओ ऊपर तक यही कार्य पुलिस विभाग के आला अफसरों का है पुलिस में रहकर अगर परिवार का भरण पोषण नहीं पगार से ₹1 खर्च नहीं करते किसी भी थाने में जाएं भिंड जिले के नाक पर दो चांदी का जूता बांका थाना प्रभारी भी आपके जूते साफ करेगा और वह पुलिस अधिकारी ईमानदारी में चिन्ना जावेगा उक्त घटना इसी तरह घटित हुई और पुलिस अधीक्षक महोदय का फोन लगाने के बाद भी सही व सटीक जानकारी नहीं दे पा रहे थे प्रेस को क्योंकि मामला पेचीदा होता चला गया आज अर्धरात्रि भिंड एसपी ने कई घंटों बाद सोच समझकर वरिष्ठ अधिकारियों से पूछ कर सिर्फ रात्रि में एक आरक्षक को निलंबित ही कर पाए लहार क्षेत्र के अंतर्गत थाना रावतपुरा सरकार अंतर्गत क्षेत्र के चिरौली निवासी ज्ञान सिंह बघेल के साथ मारपीट किए जाने के मामले में एसपी मनोज कुमार सिंह ने घटना की जानकारी मिलने के उपरांत देर रात्रि तक निर्णय लेने में तेरी आलोक राठौर आरक्षक निलंबित कर पुलिस लाइन भेज दिया है इतना ही नहीं एसपी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सांप छछूंदर जैसा खेल हो गया है एचपी मनोज कुमार सिंह ने देर रात यह निर्णय पूरा कांड उक्त कांड में एक्स कैबिनेट मिनिस्टर वर्सेस पुलिस अब हुई आमने-सामने की हो जाने पर अब अधिकारियों को भी सोच समझकर मैंने और जांच अधिकारी एसपी भिंड में एसडीओपी लहार के अबनीश बंसल को सौंपी गई है और इस मामले में एक आरक्षित को निलंबित कर लाइन अटैच कर दिया गया है मामले की जांच एसडीओपी को सौंपी गई है मनोज कुमार सिंह एसपी भिंड