नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का थाना कोतवाली पुलिस ने किया पर्दाफाश, 02 आरोपी पुलिस गिरफ्त में

महावीर अग्रवाल
 मन्दसौर  ७ सितम्बर ;अभी तक;  श्री सिद्धार्थ चौधरी, पुलिस अधीक्षक मंदसौर द्वारा अपराध एवं अपराधियों के विरुद्ध कठोरतम कार्यवाही हेतु दिये गये सतत् निर्देशों के तारतम्य में पुलिस थाना कोतवाली द्वारा डॉ0 अमित वर्मा अति0 पुलिस अधीक्षक मंदसौर, श्री परमालसिंह मेहरा नगर पुलिस अधीक्षक मंदसौर के मार्गदर्शन में कार्यवाही करते हुए रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के आरोपियों को गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता प्राप्त की है।
             घटना के संक्षिप्त विवरण अनुसार, दिनांक 05.09.2021 को फरियादी यशवंत पिता गोपाल माली उम्र 25 साल निवासी गीता भवन कोठारी नगर मंदसौर ने थाना शहर कोतवाली पर उपस्थित होकर रिपोर्ट किया कि आरोपी मदनलाल माली निवासी खिलचीपुरा थाना शहर कोतवाली मंदसौर, बालूदास बैरागी निवासी हरिया खेड़ा जिला रतलाम एवं साथी गिरोह के द्वारा पश्चिम रेलवे में ग्रुप सी और ग्रुप डी में नौकरी लगवाने के नाम पर  फर्जी दस्तावेज तैयार कर रुपए लेकर धोखाधड़ी करने संबंधित रिपोर्ट पर से अपराध क्रमांक 620/2021 धारा-420,406,409,467;468,474,120 बी भादवि  पंजीबद्ध कर अनुसंधान में लिया गया। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए थाना प्रभारी शहर कोतवाली निरीक्षक अमित सोनी के नेतृत्व मे एक टीम गठित की जाकर धोखाधड़ी करने वाले आरोपियों की तलाश पतासाजी में लगाया गया।
                 दौरान विवेचना साईबर सेल से तकनीकी जानकारियां की सहायता से आरोपी 01. मदनलाल पिता शिवनारायण जाति माली उम्र 52 वर्ष निवासी खिलचीपुरा थाना शहर कोतवाली मंदसौर  02. बालूदास पिता  मांगूदास बैरागी  उम्र 48  वर्ष निवासी हरिया खेड़ा थाना औद्योगिक क्षेत्र जावरा जिला रतलाम मध्य प्रदेश  को अभिरक्षा मे लेकर सघन पुछताछ की गई जो आरोपीगणों ने बताया कि बेरोजगार लड़कों से रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर 05-12 लाख रुपए जैसे-जैसे नौकरी की प्रोसेस होती जाएगी, वैसे वैसे टुकड़ों-टुकड़ों रुपए लेने की बात कर सभी लड़कों को अन्य साथी मदन गुर्जर व विक्रम बाथम से रेलवे में बड़े ऑफिसर होना बता कर मिलवाया। रतलाम में डीआरएम ऑफिस के पास रेलवे खेल ग्राउंड मे सभी लड़कों से फर्जी आवेदन फॉर्म भरवा कर पहली किष्त के रूप में 02-03 लाख रुपए लेकर रेलवे अस्पताल रतलाम में मेडिकल करवाने के लिए बुलवाया तथा सभी का मेडिकल रेलवे अस्पताल रतलाम में फर्जी तरीके से करवाया था। उसके बाद सभी लड़कों के द्वारा नियुक्ति के लिए दबाव बनाने पर पश्चिम रेलवे मुख्यालय चर्चगेट मुंबई ले जाकर सभी अभ्यर्थियों को फर्जी नियुक्ति लेटर दिए थे और 15 दिन में सभी की जॉइनिंग रेलवे होना बोलकर सभी से एक 01-01 लाख रुपए लेना बताया  एवं जो भी फर्जी दस्तावेज नौकरी लगवाने के लिए लड़कों को भेजे जाते थे वह हम लड़कों से एक-दो दिन में वापस ले कर धोखाधड़ी करना बताया।
             तरीका अपराध :- गिरोह के सदस्य नौकरी की तलाश कर रहे नव युवकों के परिजन को टारगेट कर उनसे जान-पहचान बढ़ाते हैं और पश्चिम रेलवे मुख्यालय में अच्छी सेटिंग होना बताकर पैसे लेकर भर्ती की पूरी प्रक्रिया फर्जी तरीके से आयोजित कर रेलवे में नियुक्ति आदेश रिक्रूटमेंट भर्ती के दस्तावेज हूबहू असली जैसे तैयार कर संगठित गिरोह बनाकर धोखाधड़ी करते हैं।
गिरफ्तारशुदा आरोपी का नाम :-
1- मदनलाल पिता शिवनारायण जाति माली उम्र 52 वर्ष निवासी खिलचीपुरा थाना शहर कोतवाली मंदसौर।
2- बालू दास पिता मांगू दास बैरागी उम्र 48 वर्ष निवासी हरिया खेड़ा थाना औद्योगिक क्षेत्र जावरा जिला रतलाम।
फरार आरोपी का नाम :-
1- मदन पिता प्रहलाद गुर्जर निवासी गुराडिया जाट, सिवनी मालवा, होशंगाबाद
2- विक्रम बाथम निवासी रेलवे कॉलोनी रतलाम व अन्य
पुलिस टीम :- उक्त कार्यवाही में निरीक्षक अमित सोनी थाना प्रभारी शहर कोतवाली मंदसौर, उप निरीक्षक भारत भाबर, उनि विष्णु वास्कले डीएसबी मंदसौर, सउनि प्रेमसिंह हटीला, प्रधान आरक्षक विनोद नामदेव, आरक्षक अमित मिश्रा डीएसबी मंदसौर, आरक्षक मोहित पंवार एवं  प्रधान आरक्षक आशीष बैरागी सायबर सेल मंदसौर की महत्वपूर्ण भूमिका रही।