बोरों से गेहूं निकालने के बाद बोरों का वजन बढ़ाने के लिए पानी का छिड़काव करने का वीडियो वायरल

रवि शर्मा
भिंड ११ जून ;अभी तक; भिंड जिले के उमरी खरीद केंद्र पर रखे गेहूं से भरे बोरों से गेहूं निकालने के बाद उसका वजन बढ़ाने के लिए पानी का छिड़काव करता हुआ एक वीडियो वायरल हुआ है । हालांकि वायरल हुए वीडियो को कलेक्टर ने संज्ञान में लेते हुए जांच दल भेजा और कार्रवाई की बात कही है
                   जानकारी के अनुसार उमरी उपार्जन केंद्र पर समर्थन मूल्य पर किसानों का गेहूं खरीदी का क्रम 25 मई को बंद कर दिया गया था बावजूद इसके 10 जून तक उपार्जन केंद्र परिसर से गेहूं से भरे बोरे गोदामों तक नहीं भिजवाई जा सके ऐसे में एक या दो ट्रक रूट गेहूं की खेत गोदामों तक ले जाया जाता था । स्थानीय लोगों की मानें तो खरीद केंद्र पर रखे गेहूं से भरे हजारों घरों में से प्रत्येक हुए में से पांच 5 किलो गेहूं चोरी के निकाल लिया गया है । गेहूं का बजन पूरा करने के लिए उन पर पानी डालकर वजन पूरा किया जा रहा है । स्थानीय ग्रामीणों द्वारा उपार्जन केंद्र प्रभारी व अन्य कर्मचारी की नजर बचाकर दूर से बनाए गए वीडियो को वायरल कर दिया गया।
            खरीद केंद्र के आसपास रहने वाले लोगों ने बताया की गेहूं के बोरों पर पानी डालने का मामला 7 जून का है इस संबंध में उपार्जन केंद्र प्रभारी भजन सिंह भदोरिया से संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन इसका मोबाइल आउट ऑफ रेंज होने के कारण उनसे संपर्क नहीं हो पाया । इससे प्रतीत होता है क्या यह वीडियो वायरल हुए पानी लीजन म के माध्यम से बोरो गेहूं के बोरों पर डालकर निकाला हुआ गेहूं का वजन बढ़ाने के लिए यह कार किया जा रहा है यह सत्य बात है ।
              इस संवाददाता ने जब गांव गांव में पड़ताल की तो 95% बात सटीक है । अब देखना यह है की जिलाधीश डॉक्टर सतीश कुमार एस कार्रवाई करेंगे या नहीं करेंगे । इसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता हालांकि कलेक्टर  ने भी वीडियो वायरल देखा है 500 क्विंटल चोरी का अनुमान गेहूं का उपार्जन केंद्र के आसपास रह रहे लोगों की माने तो उमरी के उपार्जन केंद्र पर गेहूं से भरे करीब 10,000 से अधिक गेहूं के बोरे से पांच 5 किलो गेहूं निक कॉल कर उनकी पूर्ति भी की जा रही है ।  पाइपलाइन से पानी डालकर गेहूं के बोरों में वजन बढ़ाने के लिए पानी डाला जा रहा है परंतु हास्यप्रद बात यह है की इससे पूर्व प्रशासनिक स्तर पर गेहूं के हजारों गुरु की निगरानी नहीं कराई गई बल्कि उन्हीं के भरोसे छोड़ दिया गया जिनके द्वारा गोलमाल किया जा रहा है वह करते आ रहे थे और अभी भी कर रहे हैं ।
           सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अभी तो यह 10 परसेंट गेहूं मिलाते हुए वीडियो वायरल हुआ इससे पहले कितने हजार बोर में किया होगा क्योंकि तुलाई केंद्रों पर शातिर लोग ही कार्य कर सकते हैं क्योंकि यहां गुंडई भी हो सकती है गोली भी चल सकती है हाथ पैर भी चल सकते हैं कोई भी घटना हो सकती है उसे संभालने के लिए उसी तरह के आदमियों की नियुक्तियां की जाती हैं खरीद केंद्रों पर