मनासा की विक्षीप्त महिला पुलिस की सहायता से पहुंची मंदसौर अनामिका आश्रय ग्रह

9:51 pm or September 10, 2021
मनासा की विक्षीप्त महिला पुलिस की सहायता से पहुंची मंदसौर अनामिका आश्रय ग्रह
महावीर अग्रवाल

मंदसौर १० सितम्बर ;अभी तक;  देश भक्ति जन सेवा के मन्त्र के साथ दिन की शुरुआत करने वाले
पुलिसकर्मीयो को पता ही नही रहता है कि उनकी शाम कहा पर होगी । जब हम
परिवार के साथ त्यौहारो की खुशियां मना रहे होते तब खाकी कानून व्यवस्था
के इंतजाम को लेकर हमारे शहर के चौराहों पर मुस्तेद रहती है । समाज को
सुरक्षित और संस्कारित करने के लिए अब तक हमने पुलिस की वर्दी का रोबदार
ओर कड़क रूप ही देखा है मगर इस पुलिस की वर्दी के पीछे जो व्यक्ति है उसके
सीने में भी हमारे दिल जैसा एक दिल है। वह भी हमारे समाज का एक हिस्सा
है,मगर अक्सर हम जब यह भूल जाते है तो मनासा थाना प्रभारी के.एल. दांगी
जैसे लोग अपनी कार्यशैली ओर मानव सेवा से उस जज्बे को जीवंत कर देते है ।
“सिर्फ रोब नही है वर्दी का, अवसर छोड़ते नही हम भी हमदर्दी का।”

                   ऐसी कहावत को सिद्ध करते हुए एक मामला पुलिस के मानवीय आचरण को रेखांकित
करने वाला मनासा से सामने आया है । मनासा के युवा समाजसेवी अश्विन कैलाश
चंद सोनी ने एक विक्षिप्त महिला जो की मनासा नगर में लंबे समय से रह कर
यहां-वहा पर कचरे के ढेर व गंदगी मे जीनव यापन कर रही थी । यह देख मनासा
थाना प्रभारी के.एल. दांगी को जब युवा समाजसेवी द्वारा सूचना दी गई। थाना
प्रभारी ने महिला को तत्काल सुरक्षित स्थान पर छोड़ने की कवायद शुरू की ।
ताकि महिला को इस नारकीय जीवन से मुक्ति मिल सके । इसके लिऐ टीआई दांगी
ने मंदसौर की अनामिका जन कल्याण सेवा समिति विक्षिप्त महिला आश्रयग्रह
रेवास देवडा रोड को एक बेहतर उपयुक्त स्थान माना ।
              टीआई दांगी द्वारा उक्त सेवा केन्द्र की संचालिका अनामिका प्रदीप जैन (संजीत)  फोन पर चर्चा
कर महीला के बारे मे बताया ।  समाजसेविका अनामिका जैन ने उक्त महिला को
आश्रय ग्रह भेजने की तत्काल सहमति दी । उसके बाद टीआई दांगी द्वारा
आवश्यक कार्यवाही के पश्चात महिला को महिला आरक्षक शैफाली पाटीदार के साथ
निजी वाहन से मन्दसौर आश्रय तक भेजा ।  आज के इस तंग होते जीवन मे जंहा
अपना अपने का काम नही आता वही इस दौर में पुलिस को हजारो सवालों के साथ
कटघरे में खड़े करने जब बाद कभी कभी पुलिस की वर्दी के पीछे के चेहरे की
ऐसी तस्वीर सामने आती है ।
              थाना प्रभारी के.एल. दांगी ने बताया कि अश्विनसोनी ओर अनामिका जेन का धन्यवाद उनके माध्यम से मानव सेवा का अवसर मिला
और एक मातृशक्ति को कचरे के ढेर ओर गंदगी युक्त जीवन से निकाल कर आश्रय
ग्रह छोड़ पाए । वही मामले में अश्विन सोनी ने बताया की आनमिका जेन द्वारा
विक्षप्त महिला आश्रय ग्रह जन सहयोग से संचालित किया जा रहा है और उसमें
वो जिले से बाहर की किसी महिला को नही लेती मगर टीआई दांगी व मेरे आग्रह
पर उन्होंने मनासा में घूम रही महिला को आश्रय ग्रह में रखकर नवजीवन
प्रदान किया । उक्त कार्य मे मंदसौर की संध्या चौहान, रिना कुमावत का
सराहनीय सहयोग रहा ।