रेलवे की संपत्तियों को बेचने के विरोध में मनाया चेतावनी दिवस 

4:43 pm or September 8, 2021
रेलवे की संपत्तियों को बेचने के विरोध में मनाया चेतावनी दिवस 
मोहम्मद सईद
बिलासपुर 8 सितंबर ; अभी तक ; ऑल इण्डिया रेलवे मेंस फेडरेशन के आव्हान पर साउथ ईस्ट सेन्ट्रल रेलवे श्रमिक यूनियन द्वारा  राष्ट्रीय मुद्रीकरण के फैसले के विरोध में चेतावनी दिवस मनाया गया। इसके तहत  मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के सामने बुधवार को धरना-प्रदर्शन आयोजित किया गया।
              भारत सरकार द्वारा रेलवे की परिसम्पत्तियों को बेचे जाने के खिलाफ में एआईआरएफ के आव्हान पर श्रमिक यूनियन द्वारा बिलासपुर जोन के तीनों मंडलों रायपुर, नागपुर एवं बिलासपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन आयोजित किया गया। श्रमिक यूनियन के नेताओं का कहना है कि भारत सराकर द्वारा मुद्रीकरण अभियान के तहत् रेलवे के 1,52,496 करोड़ रूपये की मूल्यवान परि-सम्पत्तियों, जिनमें 400 रेलवे स्टेशन, 673 किलोमीटर डेडीकेटेड फ्रेंट कॉरीडोर, 15 रेलवे स्टेडियम, 1400 किलोमीटर ओएचई ट्रैक, 90 पैसेंजर गाड़ियों, अनगिनत रेलवे कालोनी, 256 गुड्स शेड, 4 पर्वतीय रेलवे और 741 किलोमीटर कोकण रेलवे ट्रैक को बेचा जा रहा है।
              श्रमिक यूनियन के महामंत्री मनोज बेहरा के नेतृत्व में बिलासपुर जोन के तीनों मण्डलों में धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया। श्रमिक यूनियन के नेताओं का कहना है कि भारत सरकार के राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाईपलाईन योजना के तहत् 6.00 लाख करोड़ रूपये अर्जित  करने के लिए भारत सरकार के द्वारा सार्वजनिक उपकरणों को बेचने का षड़यंत्र किया जा रहा है। भारतीय रेलवे का निजीकरण एवं पंूजीपतियों के हवाले नहीं होने देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि भारत सरकार द्वारा मुद्रीकरण योजना पर त्वरित अंकुश नहीं लगाया जाता, तो जन आंदोलन किया जायेगा।
           धरना प्रदर्शन में श्रमिक यूनियन के केन्द्रीय पदाधिकारी एस.एम.जयप्रकाश, संजय सिन्हा, के.अमर कुमार, एस.एम.बंधोपाध्याय, पी.के.यादव, ए.के.पाण्डेय, ए.के.मोहंती, सी.नवीन कुमार-मंडल संयोजक, शाखा सचिव- आशीष लाल, राघवेन्द्र पाण्डेय, कृष्णकांत, एम.आर.कश्यप, ओ.एस.ठाकुर, तारकेश्वर, हर्षवर्धन प्रदान, स्वरूप हलदार, पी.एस.राव, अजीत कुमार, संदीप चंद्रा, विनय साहू, सी.पी.राठौर, सहित अन्य पदाधिकारी, सदस्य एवं बड़ी संख्या में रेलवे कर्मचारी उपस्थित रहे।