विश्वविद्यालय के कुलपति का नाम कुलगुरु किए जाने पर कांग्रेस द्वारा विरोध के सवाल पर दिया उच्च शिक्षा मंत्री ने दिया जबाव

मयंक शर्मा
खंडवा १० सितम्बर ;अभी तक; उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव अल्प प्रवास पर गुरुवार को खंडवा आए।
बुरहानपुर जाने से पहले सर्किट हाउस में मंत्री यादव ने मीडिया से चर्चा
की। विश्वविद्यालय के कुलपति का नाम कुलगुरु किए जाने पर कांग्रेस के
विरोध के सवाल पर मंत्री यादव ने कांग्रेस को ही कटघरे में खड़ा कर दिया।
उन्होंने कहा कुलगुरु पर कोई विवाद नहीं है। कांग्रेस के कुछ मित्र कह
रहे हैं कि कुलगुरु नहीं होना चाहिए तो पहले वे बताए महाराष्ट्र सरकार
(शिवसेना के साथ कांग्रेस सरकार में शामिल है की ओर इशारा) के शासकीय
विवि के कुलपति को कुलगुरु बोलते हैं। पहले वे अपने से बदलकर शुरूआत करे।
दक्षिण भारत के कई राज्यों में कुलपति को कुलगुरु कहा जाता है। हम तो
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के पक्षधर है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में हम इसे
लागू करेंगे।
मंत्री यादव ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कांग्रेस की मानसिकता का
मैं कुछ नहीं कर सकता। कांग्रेस अपने इन्हीं कारणों से लगातार गिरती जा
रही है। मैं उम्मीद करता हूं कि कांग्रेस कुलपति को कुलगुरु बोले जाने की
सकारात्मक भाव को समझेगी। कांग्रेस संस्कृति को समझना ही नहीं चाहती है।
शिक्षा के भगवाकरण के सावल पर मंत्री यादव ने कहा वे(कांग्रेस की ओर
इशारा) भगवाकरण यदि कुलगुरु में देखते हैं, तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है।
हम तो ऐसी बात नहीं सोचते। कांग्रेस को भगवा से क्यों नफरत है। यह
कांग्रेस विचार करे। मंत्री यादव ने झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए अलग
से कमरा आवंटित करने को गलत निर्णय बताया। उन्होंने कहा मप्र में न ऐसी
बात की है न ही करेंगे।